खुद का मालिक बनने पर शिक्षा चर्चा!

जब हेनले ने पूर्वकथित पंक्तियाँ “मैं अपने भाग्य का मालिक हूं, मैं अपनी आत्मा का कप्तान हूँ,” लिखा था, उन्हें हमें सूचित करना चाहिए था कि हम अपने भाग्य के स्वामी हैं अपनी आत्मा के कप्तान हैं, क्योंकि हमारे पास अपने विचारों को नियंत्रित करने की शक्ति है। उन्हें हमें बताना चाहिए था कि ईथर जिसमें यह छोटी सी पृथ्वी तैरती है, जिसमें हम घूमते रहते हैं और हमारा अस्तित्व है, कंपन की एक आश्चर्यजनक उच्च दर पर प्रवाहित होती ऊर्जा का एक रूप है, और कि इथर सार्वभौमिक सत्ता के एक रूप से भरा हुआ है जो खुद का उन विचारों की प्रकृति से समन्वय स्थापित करती है जिसे हम अपने मस्तिष्क में धारण करते हैं; और हमें अपने विचारों को उनके भौतिक समकक्षों में परिणत करने के लिए प्राकृतिक तरीके से प्रभावित करती है। यदि कवि हमें यह महान सत्य बताता, तो हम जानते ऐसा क्यों है कि हम अपने भाग्य के स्वामी हैं, अपनी आत्मा के कप्तान हैं। उन्हें पर्याप्त जोर दे कर हमें बताना चाहिए था कि, यह शक्ति विनाशकारी विचारों और रचनात्मक विचारों के बीच भेद करने का कोई प्रयास नहीं करती है, कि यह हमसे गरीबी के विचारों को जल्दी से भौतिक वास्तविकता में परिवर्तित करने का आग्रह करेगी, जैसा कि यह धनवान बनने के विचारों पर कार्य करने को प्रभावित करेगा। उन्हें हमें यह भी बताना चाहिए था कि हमारा दिमाग हावी होने वाले विचारों से चुम्बकीय बन जाता है जिसे हम अपने मन में रखे रहते हैं, और, उस साधन के द्वारा जिससे कोई आदमी परिचित नहीं है, ये “चुम्बक” हमारी तरफ शक्तियों, लोगों, जीवन की परिस्थितियों को आकर्षित करता है जो हमारे हावी होने वाले विचारों की प्रकृति के साथ घुल मिल जाते हैं। उनको हमें बताना चाहिए, कि इससे पहले कि हम बहुतायत में धन जमा कर सकें, हमें अपने मन को धन की तीव्र इच्छा के प्रति चुम्बकीकृत करना चाहिए, कि जब तक पैसे की इच्छा हमें इसे प्राप्त करने की निश्चित योजना बनाने के लिए बाध्य न कर दे हमें “धन के प्रति सजग” हो जाना चाहिए!

एक दार्शनिक नहीं बल्कि एक कवि होने के नाते, हेनले अपनी पंक्तियों के दार्शनिक अर्थ की व्याख्या करना उन लोगों पर छोड़ते हए जो उनका अनुपालन करते हैं, एक महान सच को काव्यात्मक रूप में बताते हुए खुद को संतुष्ट करते है। थोड़ा-थोड़ा करके, सच स्वयं को सामने लाता है, जब तक कि यह अब निश्चित प्रतीत होने लगता है कि इस पुस्तक में वर्णित सिद्धांतों में हमारे आर्थिक भाग्य पर महारत के रहस्य हैं। अब हम इन सिद्धांतों में से पहले की जांच करने के लिए तैयार हैं। ग्रहणशीलता की भावना बनाए रखें, और जैसे – जैसे आप पढ़ते जाते हैं याद रखें, वे किसी एक आदमी का आविष्कार नहीं हैं। सिद्धांतों को ५०० से अधिक ऐसे लोगों के जीवन के अनुभवों से एकत्र किया गया था जिन्होंने वास्तव में भारी मात्रा में धन जमा किया था; ऐसे लोगों से जिन्होंने गरीबी में, लेकिन बहुत कम शिक्षा के साथ, प्रभाव के बिना शुरूआत की थी। जिन सिद्धांतों ने इन लोगों के लिए काम किया। आप उन्हें अपने खुद के स्थायी लाभ के लिए काम करने के लिए उपयोग कर सकते हैं!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *